15.1 C
New York
Saturday, October 23, 2021

Buy now

spot_img

अमरेंद्र खारा के प्रयासों से सीवन बना विकास के क्षेत्र में सिरमौर

सामाजिक भाईचारे और सद्भाव की अनूठी मिसाल पेश करता है सीवन,विकास कार्यों के बलबूते बदल गई सीवन गाँव की काया 

चंडीगढ़ (नेशनल प्रहरी/ संवाददाता ) : देश के विकास का रास्ता गांव से होकर गुजरता है। जब गांवों में विकास के द्वार खुलेंगे तभी देश का विकास संभव हो सकेगा। वर्तमान समय में कई गांवों ने विकास के क्षेत्र में एक नई इबारत लिखी है जो कि अन्य गांवों के लिए रोल मॉडल बनी है। एक ऐसा ही गांव है कैथल जिले का सीवन गाँव। जो किसी पहचान का मोहताज नहीं है और विकास के बलबूते अपनी एक अलग पहचान कायम की है। लगभग 30 हजार से अधिक आबादी के गांव सीवन ने पिछले 5 वर्षों में विकास का ऐसा दामन थामा की फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा। सड़कें, गलियां, नालियां, बिजली, पानी समेत सभी मूलभूत सुविधाएं ग्रामीणों को मिली। किसी भी गांव की तरक्की में गांव की सरकार का सबसे अहम और बड़ा रोल होता है और ग्राम पंचायत सीवन ने उस रोल को बखूबी निभाया ही नहीं बल्कि जमीनी स्तर पर अमलीजामा भी पहनाया है।
ग्राम पंचायत सरपंच प्रतिनिधि अमरेंद्र सिंह खारा ने गांव वासियों की मांगों को काफी हद तक पूरा किया है। पिछले विधानसभा चुनाव में सीवन गांव ने भाईचारे की एक ऐसी आदर्श मिसाल पेश की। जिसने राजनीति का रुख ही मोड़ कर रख दिया। सीवन गांव के देवेंद्र हंस जो लंबे समय से भाजपा के पुराने कार्यकर्ता रहे हैं। जब उनका टिकट भाजपा आलाकमान ने काट दिया तो सरपंच प्रतिनिधि अमरेंद्र खारा के नेतृत्व में सभी ने देवेंद्र हंस को आजाद प्रतिनिधि के रूप में चुनावों में खड़ा करने की घोषणा की। आर्थिक रूप से कमजोर देवेंद्र हंस को पूरे गांव का समर्थन और सहयोग मिला। उन्होंने चुनावों में लगभग 30 हजार वोट बटोर कर दिखा दिया कि राजनीति में अगर गांव साथ हो तो बड़े उलटफेर हो सकते हैं। गांव वासी सभी त्यौहार एक साथ मिलकर मनाते हैं। जिससे गांव में भाईचारे की और आपसी सद्भाव की प्रेरणा मिलती है। सरपंच प्रतिनिधि अमरेंद्र खारा ने मेधावी बच्चों को प्रोत्साहन देने के लिए स्वयं के निजी कोष से लैपटॉप और आर्थिक सहायता देकर उनका उत्साहवर्धन किया। इसके अलावा भी चाहे सरकारी योजनाओं को जमीनी स्तर पर अमलीजामा पहनाना हो या सामाजिक रूप से कुरीतियों को दूर करना सभी में सीवन गांव अग्रणी रहा है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान हो या पॉलिथीन मुक्त भारत अभियान, सबको शिक्षित करने का अभियान हो या हर घर शौचालय अभियान, स्वच्छता अभियान हो या नशों के प्रति जागरूकता अभियान सीवन गाँव ने ऐतिहासिक उपलब्धियां दर्ज की हैं। देखने में सीवन गांव किसी शहर से कम नजर नहीं आता। विधानसभा चुनावों के दौरान सीएम मनोहर लाल ने सीवन गांव को नगर पालिका बनाने की घोषणा भी की थी।
सीवन गांव की जनता ने पिछले 5 वर्षों के दौरान उन्हें खूब आशीर्वाद, सहयोग, समर्थन और प्यार दिया है। गांव वासियों ने जिन उम्मीदों के साथ उन्हें चुनकर भेजा था। उन्होंने उन उम्मीदों को पूरा करने का भरसक प्रयास किया है। गांव विकास के मामले में बेहद अग्रणी है। गांव वासियों के सहयोग से विकास के क्षेत्र में नए सीवन का उद्भव हुआ है। उन्होंने कहा कि पिछले 5 वर्षों में उन्होंने हर क्षेत्र में और हर वर्ग के विकास के लिए कार्य किया है। कुछ मांगे अभी अधूरी हैं। कोशिश रहेगी कि वे मांगे भविष्य में जल्द पूरी हो। जिनका लाभ सीवन को मिल सके।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,107FansLike
0FollowersFollow
2FollowersFollow
- Advertisement -spot_img

Latest Articles