15.1 C
New York
Sunday, October 24, 2021

Buy now

spot_img

किसानों पर हुए लाठीचार्ज व बिजली बिल के नाम पर हो रही मनमानी वसूली के खिलाफ कांग्रेस ने सौंपा ज्ञापन

फरीदाबाद (नेशनल प्रहरी/ रघुबीर सिंह ) : आज फरीदाबाद के सेक्टर 12 स्थित लघु सचिवालय में हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा कुमारी सैलजा के निर्देशानुसार प्रदेशव्यापी कार्यक्रम के अंतर्गत जिला फरीदाबाद के कांग्रेसजनों ने उपायुक्त फरीदाबाद के माध्यम से महामहिम राज्यपाल के नाम रोहतक में किसानों पर हुए बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज, किसान विरोधी काले कानूनों व बिजली विभाग की मनमानी के खिलाफ ज्ञापन सौंपा।
आज हमारे देश का अन्नदाता मोदी सरकार के कृषि विरोधी तीन काले कानूनों को रद्द करवाने के लिए पिछले 4 महीनों से भी ज्यादा समय से हरियाणा-दिल्ली बॉर्डर पर शांतिपूर्ण तरीके से लगातार आंदोलन कर रहा है। इस आंदोलन में अब तक 300 से किसान शहीद हो चुके हैं परंतु यह बड़े ही खेद की बात है कि मोदी सरकार अपने पूंजीपति साथियों के इशारे पर देश के अन्नदाता की जायज मांगों को मानने को तैयार नहीं है। भाजपा सरकार की इस हठधर्मिता के चलते हरियाणा के किसान भाजपा-जजपा सरकार के नेताओं के कार्यक्रमों का शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे हैं। इसी कड़ी में जब 3 अप्रैल 2021 को हरियाणा के मुख्यमंत्री के रोहतक आगमन पर हमारे किसान भाई शांतिपूर्वक विरोध जता रहे थे तो पुलिस प्रशासन ने उन पर बर्बरता पूर्ण तरीके से लाठीचार्ज किया। इस लाठीचार्ज के कारण एक बहुत ही बुजुर्ग किसान सहित दर्जनों लोगों को गंभीर चोटें आई।
किसानों के साथ अन्याय करने वाली हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार आम जनता के साथ भी बिजली बिलों के माध्यम से अघोषित लूट को अंजाम दे रही है।बिजली बिलों में अग्रिम खपत जमा (एसीडी) के नाम पर भारी भरकम राशि जोड़कर भेजे जाने से उपभोक्ताओं पर अतिरिक्त बोझ पड़ा है जोकि इस कोरोनाकाल में एक अभिशाप साबित हो रहा है। एक ओर लोग कोरोना महामारी में आर्थिक रूप से तंगी का सामना कर रहे हैं, दूसरी ओर हरियाणा सरकार एसीडी के नाम पर भारी-भरकम बिल भेज रही है। कांग्रेस पार्टी महामहिम राज्यपाल महोदय से यह अनुरोध करती है की वह हरियाणा सरकार को व्यापक जनहित के मद्देनजर इस अन्यायपूर्ण फैसले को तत्काल रद्द करने के लिए निर्देशित करें।
हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार किसानों की मांगों का समाधान करने की बजाय लोकतंत्र की हत्या पर उतारू हैं। सरकार की इस हठधर्मिता के चलते हरियाणा के किसान अपनी जायज मांगो को मनवाने के लिए भाजपा-जजपा सरकार के नेताओं के कार्यक्रमों का शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे हैं।
भाजपा सरकार किसानों की आवाज को दबाने के लिए ओछे हथकंडे अपना रही है। अपने पूंजीपति मित्रों की खातिर यह सरकार भूल गई है कि किसान इस देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। किसान यदि खुशहाल नहीं है तो देश भी खुशहाल नहीं हो सकता है। इतना ही नहीं भाजपा जजपा के नेता व कार्यकर्ता शांतिपूर्ण तरीके से आन्दोलन कर रहे किसानों को भड़काने के उदेश्य से सोशल मीडिया इत्यादि पर अमर्यादित भाषा का प्रयोग करके आए दिन विवादित व भड़काऊ भाषण देते रहते है जोकि सरासर गलत है।
कांग्रेस पार्टी यह मांग करती है कि 3 अप्रैल 2021 को शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे किसानों पर बर्बरतापूर्ण लाठी चार्ज करने के आदेश देने वाले अधिकारियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई हो। किसानों के विरुद्ध जो कोई भी व्यक्ति या नेता विवादित बयान देता है या अमर्यादित भाषा का प्रयोग करता है उसके खिलाफ तुरंत कार्रवाई के लिए प्रदेश सरकार को आदेश जारी हो। हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार को राज्यपाल महोदय यह नसीहत देने का भी कष्ट करें कि वह किसानों का अस्तित्व समाप्त करने वाले तीन काले कानूनों को रद्द करवाने के लिए केंद्र की मोदी सरकार पर दबाव बनाए
इस अवसर पर मुख्य रूप से वरिष्ठ कांग्रेसी नेता विजय प्रताप, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन सिंघला, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पंडित योगेश शर्मा, पूर्व प्रदेश महासचिव बलजीत कौशिक, प्रदेश प्रवक्ता योगेश कुमार ढींगरा, प्रदेश प्रवक्ता सुमित गौड़, राष्ट्रीय महासचिव किसान कांग्रेस राकेश भड़ाना, पूर्व डिप्टी मेयर मुकेश शर्मा, अब्दुल गफ्फार कुरैशी, एचपीसीसी कोर्डिनेटर गौरव ढींगड़ा, अध्यक्ष ओ बी सी डिपार्टमेंट ललित भड़ाना, महिला कांग्रेस ज़िला अध्यक्ष सुनिता फागना, महिला कांग्रेस ग्रामीण ज़िला अध्यक्ष गजना लम्बा, ऐआई॰पी सी ज़िला अध्यक्ष डॉक्टर सौरभ शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता जितेंद्र चंदेलिया, वरिष्ठ कोंग्रेस नेता एस.एल.शर्मा, अशोक रावल, युवा कांग्रेस पराग गौतम, ईशांत कथूरिया, राजेश आर्य, अनीश पाल, संजय सोलंकी, अश्विनी कौशिक, विजय कौशिक, सुभाष कौशिक, सोहैल सैफि, सोनू सलूजा, नीरज गुप्ता, बाबूलाल रवि, मनोज पंडित, समीर धमीजा, अनिल कुमार, भरत अरोरा, पम्मी मान, लाडो देवी लक्ष्मी, अंजू मिश्रा, रूपा गौतम, सरदार सुरेंद्र, रंधावा फागना, मेहर चंद पाराशर, राजेश चौधरी, महेंद्र यादव, कंवर सिंह मलिक, राजेंद्र चौहान, अर्जुन सैनी, पिंटू सैनी, राजा सैनी, रतन सिंह, राजकुमार यादव, हरी लाल गुप्ता, सोनू प्रधान, किशन, विनोद कुमार, रमेश कुमार, संतोष कौशिक, नवीन भामला, जीतू गोयल, विकास फागना जिला उपाध्यक्ष एन एस यू आई, बबलू चौधरी, बिल्लू यादव, अर्जुन तंवर, ब्रह्म प्रकाश गोयल सहित अन्य हजारों कार्यकर्तागण मौजूद रहे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,107FansLike
0FollowersFollow
2FollowersFollow
- Advertisement -spot_img

Latest Articles