15.9 C
New York
Friday, October 22, 2021

Buy now

spot_img

रक्त्तदाताओं की बदौलत ही बहता है थैलेसीमिया रोगियों की रगों में रक्त्त,14 जून को रक्त्तदाता करें खुलकर रक्त्तदान : गिफ्ट

फरीदाबाद (नेशनल प्रहरी/ रघुबीर सिंह ): हर वर्ष 14 जून की तारीख को “विश्व रक्त्तदाता दिवस” के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 2005 से चलते आ रहे इस दिवस को मनाने का मूल उद्देश्य सुरक्षित (संक्रमण मुक्त) रक्त्त के बारे में जागरूकता फैलाना व स्वैच्छिक रक्त्तदाताओं का धन्यवाद करना होता है।
रक्त्त की हर बूँद अनमोल: यूँ तो रक्त्त की ज़रूरत किसी को भी पड़ सकती है, चाहे कोई सड़क दुर्घटना का मामला हो, गर्भवती महिला में रक्त्त की कमी होने का, किसी प्रकार का कोई सर्जिकल ऑपरेशन अथवा कोई आपातकालीन स्थिति आदि, परन्तु थैलेसीमिया के रोगियों को तो जीवन भर औसतन हर 15-20 दिनों के बाद रक्त्त की ज़रूरत पड़ती है। उनकी पूरी ज़िन्दगी ही रक्त्तदाताओं पर निर्भर रहती है। सीधा सीधा कहें तो, अगर रक्त्तदाता हैं तो ही इन रोगियों की ज़िंदगी है। इसीलिए स्वैच्छिक रक्त्तदाताओं का जितना भी आभार प्रकट किया जाये वो कम ही होगा। यह मानना है, ग्लोबली इंटीग्रेटिड फॉउंडेशन फॉर थैलेसीमिया (गिफ्ट) के संस्थापक, मदन चावला का।
कोरोना काल में रक्त्तदाताओं की कमी: चावला ने बताया कि हमारे देश में ज़रूरत की तुलना में रक्त्त की उपलब्धता में कमी अक्सर हमेशा ही रहती है, पर पिछले 15-18 महीनों में कोरोना महामारी के चलते रक्त्त की कमी ज़्यादा महसूस होने लगी है। इसके मुख़्य कारण लोगों के मन में वायरस का डर, कोरोना से ठीक होने के बाद रक्त्तदान करने में ज़रूरी अन्तराल, कोविड वैक्सिन लगवाने के बाद रक्त्तदान करने के लिये दो सप्ताह का फाँसला रखना, रक्त्तदान से सम्बंधित कुछ मिथ्यायें, आदि हैं।
हालात मुश्किल,पर हौंसले बुलंद: विशेषकर कोरोना की दूसरी लहर में वक़्त की नज़ाकत को समझते हुए “गिफ्ट” ने ज़्यादा रक्त्तदान शिविर आयोजित करने की बजाये, रक्त्तदाताओं को थैलेसीमिया ग्रस्त बच्चों के लिये सीधा ब्लड बैंक में जाकर रक्त्तदान करने का आग्रह करने की रणनीति अपनाई। यह कार्य आसान नहीं था। हमनें फोन कॉल्स, व्हाट्सऐप, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, लिंक्डइन व ऐंसे अन्य सोशियल मीडिया के माध्यमों से लोगों से रक्त्तदान करने की अपील की। शुरुआत में औसतन लगभग एक सौ लोगों से फोन पर सम्पर्क स्थापित करने के बाद 4 या 5 लोग रक्त्तदान करने को तैयार हो गये। यह कम था, पर निसंदेह ही कुछ ना होने से बहुत बेहतर था। धीरे-धीरे हम ज़रूरत के अनुसार रक्त्त एकत्रित करने में कामयाब होते गये। टीम गिफ्ट के सभी सदस्यों, समाज के युवा वर्ग और कुछ सामाजिक संस्थाओं ने मुश्किल के इस दौर में रक्त्त की आपूर्ति करने में हमारा बखूबी साथ दिया। अब, जब परिस्थितियों में काफी सुधार नज़र आने लगा है, तो विश्व रक्त्तदाता दिवस के उपलक्ष्य पर गिफ़्ट दो रक्त्तदान शिविरों का आयोजन कर रही है।
रक्त्तदाता का दर्जा सर्वोपरि: चावला ने कहा कि रक्त्तदाता ज़मीन पर रहते हुए भी आसमानी फरिश्तों के समान हैं। विश्व रक्त्तदाता दिवस के अवसर पर हम सभी स्वैच्छिक रक्त्तदाताओं का कोटि कोटि धन्यवाद करते हैं। हम उन सभी लोगों व संस्थाओं के भी आभारी हैं जो रक्त्तदाताओं को जागरूक व प्रोत्साहित करने की मुहिम में हमारे साथ सदैव कन्धे से कन्धा मिलाकर खड़े होते हैं।
गिफ्ट के संस्थापक मदन चावला ना केवल स्वयं एक नियमित रक्त्तदाता हैं, बल्कि उनके परिवार व टीम में रक्त्तदान योग्य सभी महिला व पुरूष सदस्य भी नियमित रूप से रक्त्तदान करते हैं। हमारे पाठक, थैलेसीमिया के रोगियों के लिये रक्त्तदान हेतु उनसे +91 9811089975 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,107FansLike
0FollowersFollow
2FollowersFollow
- Advertisement -spot_img

Latest Articles