15.1 C
New York
Saturday, October 23, 2021

Buy now

spot_img

लूट व फिरौती के लिए हुई थी व्यापारी आदेश मित्तल की हत्या, वारदात में शामिल तीन लोग गिरफ्तार

फरीदाबाद (नेशनल प्रहरी/ रघुबीर सिंह ) : सेक्टर-2 निवासी हार्डवेयर व्यापारी आदेश मित्तल की हत्या का मामला क्राइम ब्रांच ने 48 घंटे के अंदर सुलझा लिया। एसीपी क्राइम अनिल कुमार के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच डीएलएफ और ऊंचा गांव ने संयुक्त आपरेशन कर तीन आरोपितों को आनंद विहार दिल्ली से गिरफ्तार किया है। आरोपितों में तिगांव निवासी प्लंबर राकेश पाराशर, बल्लभगढ़ निवासी राहुल शर्मा और गोहाना सोनीपत निवासी विजय पाराशर शामिल हैं।
आदेश मित्तल तिगांव में हार्डवेयर की दुकान करते थे। हार्डवेयर की दुकान पर प्लंबर की जरूरत रहती है, इसलिए प्लंबर का काम करने वाला राकेश पाराशर उन्हें पिछले 10-12 सालों से जानता था। राकेश काफी कर्जे में दबा हुआ है। कर्जा उतारने के लिए उसने अपने भांजे राहुल शर्मा और विजय पाराशर के साथ मिलकर आदेश मित्तल का अपहरण कर लूट व फिरौती की योजना बनाई। राहुल और विजय के ऊपर भी कर्जा है, इसलिए दोनों साजिश में शामिल हो गए। राकेश को अनुमान था कि आदेश मित्तल रोजाना दो-तीन लाख रुपये की बिक्री करते हैं। वहीं चार पांच लाख रुपये वह उसके परिवार वालों से फिरौती के रूप में मंगवा लेगा।
10 दिन से रच रहे थे साजिश: तीनों आरोपित आदेश का अपहरण कर लूट व फिरौती की साजिश 10 दिन से रच रहे थे। विजय पाराशर दिल्ली में टैक्सी चलाता है। हत्या से दो दिन पहले उसने दिल्ली से ईको कार चोरी की। इसके बाद उन्होंने आदेश की रेकी कर उनके घर से दुकान आने-जाने की जानकारी जुटाई। वारदात वाले दिन उन्होंने दुकान से ही ईको कार में आदेश की ब्रेजा कार का पीछा शुरू कर दिया। रास्ते में उन्हें आदेश को रोकने का मौका नहीं मिला। इसलिए उनके घर से 200 मीटर पहले उन्होंने आगे ईको कार लगाकर आदेश को रोक लिया। इसके बाद पिस्टल दिखाकर अपहरण कर लिया। उन्हें आदेश की जेब से महज पांच हजार रुपये मिले। तीनों आदेश के परिवार वालों से फिरौती की काल करने वाले थे। राकेश ने गमछा से अपना चेहरा छिपाया हुआ था। गमछा खुल जाने से आदेश ने उसे पहचान लिया।आरोपी तिगांव से व्यापारी की गाड़ी का पीछा करते हुए सेक्टर 2 पहुंचे और व्यापारी की गाड़ी को टक्कर मार दी। टक्कर लगते ही व्यापारी ने गाड़ी रोक दी और आरोपियों ने व्यापारी को गाड़ी से नीचे उतारने की कोशिश की परंतु जब व्यापारी नीचे नहीं उतरा तो उन्होंने उसे चाकू मार दिया। घायल अवस्था में व्यापारी को आरोपी इको गाड़ी में डालकर ले गए। इसी बीच व्यापारी ने आरोपी राकेश को पहचान लिया। व्यापारी ने आरोपी राकेश से कहा कि वह जितना पैसा चाहिए उसे लाकर दे देगा लेकिन मुझे छोड़ दे। परंतु आरोपी राकेश ने सोचा कि अब उसकी पहचान हो गई है और यदि व्यापारी जिंदा बच गया तो वह पुलिस को बता देगा और पुलिस उसे गिरफ्तार कर लेगी। जेल जाने के डर से आरोपियों ने व्यापारी को चाकू से कई वार करके उसकी हत्या कर दी और छांयसा रोड हीरापुर के पास उसके शव को फेंक दिया।
क्राइम ब्रांच ने बेहतर काम किया है। महज 12 घंटे में आरोपितों का पता लगा लिया था और 48 घंटे के अंदर उन्हें दबोच लिया गया। वारदात में तीन लोग शामिल थे, तीनों को दबोच लिया है।
गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपियों से पुलिस मामले में गहनता से पूछताछ कर रही है और आरोपियों को कल अदालत में पेश करके पुलिस रिमांड पर लिया जाएगा और वारदात में प्रयोग गाड़ी और हथियार बरामद किए जाएंगे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,107FansLike
0FollowersFollow
2FollowersFollow
- Advertisement -spot_img

Latest Articles