11.9 C
New York
Saturday, October 23, 2021

Buy now

spot_img

सांसद सुशील गुप्ता के नेतृत्व में खोरी गांव के प्रतिनिधि मंगलवार को देंगे प्रधानमंत्री को ज्ञापन

खोरी गांव निवासियों को विस्थापित करने से पूर्व पुनर्वास की व्यवस्था करें सरकार:डा सुशील गुप्ता
फरीदाबाद (नेशनल प्रहरी/ रघुबीर सिंह ):
फरीदाबाद नगर निगम द्वारा सूरजकुंड क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले खोरी गांव में पूर्नवास से पूर्व तोड़फोड़ की कार्रवाई के विरोध में आम आदमी पार्टी के सांसद व हरियाणा सहप्रभारी सुशील गुप्ता के नेतृत्व में खोरी गांव के निवासी मंगलवार को प्रधानमंत्री कार्यालय में ज्ञापन सौपेंगे। इस ज्ञापन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उनके द्वारा बनाई गई जहां झुग्गी वहीं मकान देने की योजना की तर्ज पर लोगों के लिए पूर्नवास के लिए अनुरोध करेंगे। डा गुप्ता प्रात; 7 बजे सराय ख्वाजा फरीदाबाद से प्रधानमंत्री कार्यालय के लिए चलेगे।
डा गुप्ता ने बताया कि वह खोरी गांव के तकरीबन हजारों लोगों के साथ मंगलवार को अपने मकानों को बचाने के लिए फरीदाबाद के सराय ख्वाजा चैक से दिल्ली में प्रधानमंत्री कार्यालय तक पैदल मार्च करते हुए एक ज्ञापन सौंपेंगे।
डा गुप्ता का कहना है कि फरीदाबाद स्थित, सूरजकुंड के खोरी गाँव मे करीब 15 हजार मकानों में लगभग 100000 लोग पिछले दो-तीन दशक से रह रहे है। परन्तु पिछले कुछ महीनों से फरीदाबाद निगम द्वारा उस जगह को खाली करने को विवश किया जा रहा है जो मानवीय दृष्टिकोण से अनुचित है इसलिए हरियाणा सरकार को लोगों के विस्थापन के पूर्व पुनर्वास सुनिश्चित करना चाहिए।
उन्होंने कहा दुर्भाग्य से ऐसा नहीं हुआ,वहां लोगों ने अपने खून पसीने से ईंट-ईंट जोड़कर रहने के लिए आसरा बनाया था, जो आज उनकी ही आँखों के सामने तोडा जा रहा है। जिसको लेकर लोग आशंकित और सहमे हुए है।
उन्होंने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हरियाणा वन विभाग की तरफ से खोरी गांव में नोटिस चस्पा कर दिए गए हैं। इधर जिन लोगों ने अपने मकान बना लिए हैं उनके पास अब कोई रास्ता नहीं बचा है। लोग कहने को तो मकान मालिक हैं और हालात किराएदार से भी बदतर हैं। प्रशासन के डर से खोरी गांव की गलियां सूनी नजर आ रही है।
यही नहीं करीब डेढ़ महीने के लॉकडाउन में खाली बैठने के तुरंत बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश आने के बाद लोग खाने और रहने दोनों के लिए मोहताज हो गए हैं। ऐसे में गरीब व बेसहारा लोगों की मेहनत से बनाए घरों को बचाया जाना चाहिए। सांसद गुप्ता ने कहा कि खोरी गांव की लाइट काट दी गई, कई घरों में खाने के लिए अनाज तक नही बचा है। ऐसे में अपने घर को बचाएं या बच्चों का पेट भरें।
उन्होंने बताया कि पुलिस ने अभी तक ढाई सौ से ज्यादा लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पिछले दस दिनों में पुलिस दर्जन भर लोगों को अलग-अलग आरोप में गिरफ्तार कर चुकी है। गांव के लोगों में इस बात को लेकर डर का माहौल है। खोरी गांव में ज्यादातर लोग दूसरे राज्यों के प्रवासी मजदूर हैं।
उन्होंने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि कोविड-19 महामारी के समय खोरी गांव निवासियों को नहीं हटाया जाना चाहिए। प्रधानमंत्री से निवेदन किया कि आप इन निवासियों को विस्थापित करने से पूर्व इनको पुनर्वासित करने का प्रबंध करवाने का कष्ट करेगें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

1,107FansLike
0FollowersFollow
2FollowersFollow
- Advertisement -spot_img

Latest Articles