वाराणसी में बनेगा देश का पहला पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोपवे, मिली 200 करोड़ रुपये की मंजूरी

0
112

लखनऊ (नेशनल प्रहरी/ संवाददाता)। देश में अक्सर जाम की स्थिति देखने को मिलती है इस समस्या से निजात दिलाने के लिए सरकार कई तरह की परियोजना बना रही है। ऐसी ही एक परियोजना देश की पवित्र नगरी वाराणसी में बनाई जा रही है। जिससे वाराणसी के लोगों को काफी फायदा होगा देश का पहला पब्लिक ट्रांसपोर्ट रोपवे वाराणसी में बनाया जा रहा है। इसके लिए सरकार द्वारा 200 करोड़ रुपए के बजट को मंजूरी दे दी गई है। इसकी पहली किस्त जनवरी के पहले हफ्ते में तय कर दी जाएगी, यह रोपवे वाराणसी से गोदौलिया के बीच सड़क किनारे बनी हुई जन सुविधाओं की लाइन को शिफ्ट करने के लिए बनाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि 15 जनवरी से इस लाइन को शिफ्ट करने की तैयारियां शुरू कर दी जाएगी, इस रोपवे के निर्माण के लिए शासन स्तर पर भी तैयारियां शुरु कर ली गई है।
क्यों किया जा रहा है, रोपवे का निर्माण?: दरअसल, वाराणसी एक पर्यटक स्थल होने के कारण यहां अक्सर भीड़ भाड़ देखने को मिलती है। बनारस के पुराने इलाकों की सड़कें आज भी संकरी और छोटी हैं जिसके कारण ज्यादा ट्रैफिक होने की वजह से यहां अक्सर जाम की स्थिति बनी रहती है। इस रोपवे के बनने के बाद यहां देश-विदेश से आने वाले पर्यटको को भी काफी फायदा होगा भीड़भाड़ वाले इलाकों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए सभी लोग इस रोपवे का इस्तेमाल करेंगे।
कितनी जमीन पर बनेगा रोपवे?: 3.75 किलोमीटर लंबे रोपवे के लिए 1.59 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण के लिए चिन्हित की गई है। इस रोपवे की लंबाई 3.75 किलोमीटर होगी, यह रोपवे 30 टावरों से गुजरेगा और इसके लिए पांच स्टेशन बनाए जाएंगे इसके अलावा ग्राउंड पेनेट्रेटिंग रडार(जीपीआर) के सर्वे में जलकल स्मार्ट सिटी, गेल, बिजली विभाग और बीएसएनएल के निर्माण को चिन्हित किया गया है। कैंट स्टेशन और गोदौलिया चौराहे पर 3,000 वर्ग किलोमीटर जमीन अधिकृत की गई है। इस बारे में मंडलायुक्त कौशल राज शर्मा ने बताया कि रोपवे परियोजना में जमीन अधिग्रहण के लिए 173 करोड रुपए और जन सुविधाओं की लाइन को शिफ्ट करने के लिए 28 करोड़ रुपए के बजट को सरकार द्वारा मंजूरी दे दी गई है। मार्च 2023 में रोपवे का निर्माण शुरू कर दिया जाएगा।
कम हो जाएगी दूरी: इस रोपवे की दूरी 4.2 किलोमीटर तय की गई है जिसको पार करने में करीब 15 मिनट लगेंगे। इस पर 45 मीटर की ऊंचाई पर ट्रॉली कार चलेगी, इसमें 220 ट्रॉली होंगी एक ट्रॉली में 10 पैसेंजर सवार हो सकते हैं। वाराणसी कैंट से सवार होकर गिरजाघर स्टेशन तक कुल चार स्टेशन बनेंगे। इस रोपवे के द्वारा एक दिशा में एक बार में कुल 4,000 लोग यात्रा कर सकेंगे। इस रोपवे के द्वारा लोगों को दिन और रात दोनों में आने-जाने की सुविधा दी जाएगी।