मेवात के मकबूल फिदा हुसैन जुबेर अहमद ने वॉलिंटियर्स को सिखाए स्केचिंग के गुर

0
944

● शिक्षा एवं अनुशासन ही कामयाबी का सबसे बड़ा हथियार: डॉ मोहम्मद रफीक
नूंह(नेशनल प्रहरी/ संवाददाता)।
राष्ट्रीय राज्य सेवा योजना शिविर के दूसरे दिन आज पर्सनैलिटी डेवलपमेंट विषय पर एनएसएस फुल वालंटियर्स को संबोधित करते हुए डॉक्टर मोहम्मद रफीक ने कहा कि अनुशासन एवं शिक्षा ही वह हथियार हैं जिसे हम बिना लड़ाई के उन्नति करके अपना परिवार तथा देश का विकास करने में योगदान दे सकते हैं।उन्होंने बताया कि मेरी अल्पायु में ही शादी हो गई थी लेकिन मेरे पिताजी के प्रेरणादायक शब्दों ने मुझे शिक्षा जारी रखने के लिए प्रेरित किया और आज उसी का नतीजा है कि मैं आपके बीच में एक स्कॉलर के रूप में उपस्थित होकर गर्व महसूस कर रहा हूं। कैंप के दूसरे सत्र में मेवात के मकबूल फिदा हुसैन के नाम से प्रसिद्ध राष्ट्रीय स्तर के आर्टिस्ट जुबेर अहमद ने कहा कि मुझे कला के बारे में कोई नॉलेज नहीं थी लेकिन अशरफ सर और मेरे अन्य गुरुजनों ने मुझे प्रोत्साहित किया फलस्वरुप मैंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से मास्टर इन फाइन आर्ट्स किया और अब इसी विषय में पीएचडी कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि आप भी मेरी शिक्षा तरह प्राप्त कर तरह से अपने क्षेत्र का देश का नाम रोशन कर सकते हैं।
इस अवसर पर प्रधानाचार्य सरोली मोहम्मद अरशद, प्रधानाचार्य कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय फिरोजपुर झिरका सैय्यद मोहम्मद ईनाम, कार्यक्रम अधिकारी गोवर्धन मम्मनदीन व दिनेश खटाना सहित अनेक विद्यालयों के कार्यक्रम अधिकारी व वॉलिंटियर्स उपस्थित रहे। सरोली मॉडल संस्कृति की वालंटियर्स शहंशाह, आफीदा, मोहसीना, सलातून, फिरोजपुर झिरका कन्या विद्यालय की छात्रा मुस्कान, खुशबू, पायल, कैराका से नाजिया, हुमैरा, ज्योति राइसमा और मोहम्मदपुर अहिर विद्यालय से वॉलिंटियर अब्दुल्ला, जफर, शहजाद मालब के वालंटियर अरमान सूंध से ऋतिक आदि ने बताया कि हमें इस शिविर में बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है और हम शिविर का पूरा लुत्फ उठा रहे हैं।