स्कॉलरशिप दिलवाने के नाम पर साइबर फ्रॉड करने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार

0
433

● गृह मंत्रालय के पोर्टल प्रतिबिंब की नजर से अब बच नही पायेगें साइबर ठग
फरीदाबाद (नेशनल प्रहरी/ रघुबीर सिंह)।
पुलिस आयुक्त राकेश कुमार आर्य व पुलिस उपायुक्त साइबर अपराध जसलीन कौर के दिशा निर्देश एवं एसीपी साइबर क्राइम अभिमन्यु गोयत के मार्गदर्शन में कार्रवाई करते हुए प्रतिबिंब ऐप के नोडल अधिकारी एवं साइबर थाना एनआईटी प्रभारी इंस्पेक्टर अमित कुमार की टीम ने फरीदाबाद में बैठकर स्कॉलरशिप दिलवाने के नाम पर साइबर फ्रॉड करने वाले 2 आरोपियो को काबू किया है।
पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि गृह मंत्रालय ने साइबर ठगो पर प्रहार करने के लिए एक पोर्टल प्रतिबिंब शुरू किया है। प्रतिबिंब पोर्टल के माध्यम से साइबर टीम द्वारा साइबर ठगो व सस्पेक्टेड व्यक्तियों पर नजर रखी जाती है।
किसी भी एरिया में बैठकर किसी के साथ साइबर फ्रॉड किया जा रहा है तो उसकी जानकारी पोर्टल के माध्यम से साइबर टीम को मिल जाती है। इस पोर्टल में जिसके साथ फ्रॉड किया गया है उसकी जानकारी भी उपलब्ध रहती है आज के इस प्रकरण में भी पीड़ित महिला से बातचीत की गई। उनके नजदीकी थाने की पुलिस से संपर्क करके उनको बुलाया गया
पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि काबू किए गए आरोपी सोनू और नरेन्द्र है। दोनों आरोपी राजस्थान, जिला डीग के गांव पाटका के रहने वाले है। साइबर टीम ने दोनों आरोपियो को कृष्णा कॉलोनी बाटा चौक के पास से काबू किया है। आरोपी सोनू 12वीं पास है आरोपी नरेंद्र फाइनल ईयर है आरोपियों से पूछताछ में पता लगा कि वह राजस्थान में ठगी की 6 वारदात कर चुके हैं।
वारदात को कैसे अंजाम दे रहे थे: आरोपियो ने जयपुर की रहने वाली महिला से Ministry of Labour and Employment Govt. of India के अधिकारी बनकर बात कर महिला को अपने झांसें में लिया। आरोपियो ने पीडित को बताया कि उसके बच्चों की 1,30000/-रु की एजुकेशन स्कॉलरशिप आई है। जिसको भेजने के लिए कुछ डॉक्यूमेंट, प्रोससिंग अन्य कुछ फॉर्मेलिटी की जानी है । इस फॉर्मेलिटी को पूरा करने के लिए एक फीस देनी पड़ेगी जो करीब 20000/-रु की है। आरोपियो द्वारा पीडित महिला के पास एक क्यूआर कोर्ड भेजा जिसपर पीडित महिला के द्वारा 11 ट्रांजैक्शन 2000/-रु की कर 22000/-रु दे दिए। महिला को बाद में एहसास हुआ कि उसके साथ साइबर ठगी हुई है तो महिला ने 1930 पर शिकायत की थी जिस पर थाना संजय सर्कील जयपुर में साइबर ठगी का मुकदमा दर्ज है।
आरोपियो को काबू कैसे किया गया: प्रतिविम्ब पोर्टल पर पीडित व आरोपी दोनों की जानकारी उपलब्ध थी। पोर्टल के नोडल अधिकारी इंस्पेक्टर अमित की महिला से बात हुई। महिला के साथ हुए साइबर फ्रॉड के मामले मे साइबर थाना प्रभारी ने तुरंत एएसआई जितेन्द्र के नेतृत्व में मुख्य सिपाही संजय कुमार,राकेश औऱ सिपाही मोहित कुमार की टीम नियुक्त की। टीम के द्वारा दोनों आरोपियो को प्रतिबिंब पोर्टल की मदद की मदद से कृष्णा कॉलोनी से काबू कर मौके से 6 मोबाईल फोन बरामद किए है। आरोपियो के संबंध में राजस्थान के संजय सर्कील थाना पुलिस टीम को सूचना दी। दोनों आरोपियो को राजस्थान पुलिस के हवाले किया गया ।